Skip to content

A get together

September 13, 2010
tags: ,

गुलजार साहब की बेहतरीन रचनाओं मे से एक – ‘A get together’.

A hard hitting poem on realities of death. 

 

A get together 

मौत-ओ-मातम की गहमा-गहमी थी

एक जोश-ओ-खरोश था हरसू

“‘उस’ को भी तो खबर कर दो”

“‘उस फ़लाँ’ को खबर करी की नहीं”

शहर के फोन जुडते जाते थे

एक कोलॉज बन रहा था कहीं

 

रोते-रोते कहा एक साहब ने :

“चेहरा देखो तो सो रहे है अभी

ऎसा लगता है ….

‘भाई’ कह दो तो जाग जाएँगे”

 

कुछ बहुत मोतबर-ओ-जिम्मेदार से लोग

जिम्मेवारी से बात करते है :

“लाश कितने बजे उठाएँगे?”

“थोडा बासी दही मँगा लेना”

“आखिरी दीद कर लें अब, कह दो”

“देख लो एक फ़्लाईट दिल्ली की –

और कुछ लोग आनेवाले हैं”

कोई गाडी रूकी है फिर आके

सारे चेहरे पलट गए हैं उधर

दूर से उँचे हो गए है विलाप

कोई हस्ती अहम-सी होगी

एक-दो लोग थामने के लिए

बढ गए है कुछ आगे

“सब्र-सब्र-धीर करो”

“सबको एक दिन तो जाना है”

“आई को कौन टाल सकता है ?”

“सब्र-सब्र-धीर करो”

हिचकियाँ रोककर रोने वाले ने

सुसकियाँ लेते-लेते फिर पूछा :

“कब हुआ ? – कैसे ? – किस तरह…..?

कल तो अच्छे-खासे थे……

पिछले मंगल मिले तो थे मुझसे

हँसकर कहने लगे…..

‘अब के भी घर न आए तो …..

मुँह नहीं देखुँगा कभी'”

फूटकर फिर से रो पडा कोई

“सब्र-सब्र-धीर करो”

 

रोयें भी तो कितनी देर भला

पेट गुडगुडाने लगते हैं

बासी होने लगा है अब माहौल

अब उठा के ले चलो इसको

 

गहमा-गहमी थी ख़ूब मरघट में

कौन है, जिसकी लाश आई है

कुछ अहम लोग भी दिखाई देते है

“रास्ते मे खबर मिली मुझको

मै तो सीधा यहीं चला आया”

“आपका केस क्या हुआ कचहरी में ?”

“फिर से तारीख पड गई उसकी”

“मै तो बस दंग रह गया सुनके

सेहत अच्छी थी आज भी, टच-वुड”

“थोडी लकडी उठा के लाश पर रख दो”

 

लौट आए जलानेवाले सभी

फिर नहाए उठानेवाले सभी

“लेना-देना चुका गया”

बोले हाथ मल के ज़मानेवाले सभी

 

शाम तक राख ठंडी हो गई होगी

और कनस्तर मे भर के ढेर-का-ढेर

पीछे खाडी मे फेंकने के लिए

दो रुपये और भंगी को देकर

लम्बी-सी एक साँस ली होगी

“मिट्टी में मिल गई मिट्टी”

 

कल कलेंडर में जब सुबह होगी

“मैं कहीं नहीं हूँगा

मै जो ‘हूँ’ ‘था’ हो चुका होगा”

 

Gulzar

Advertisements
No comments yet

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: