Skip to content

अनज़ान

November 13, 2012

किससे कहूँ, कैसे कहूँ,

कहूँ मैं, या न कहूँ,

कह दूँ तो तुझसे रुसवा होऊँ,

न कहूँ तो खुद से रुसवा होऊँ,

आज मैं चुप-चाप सहूँ,

या छुप के आप ही रोऊँ,

रौशनी में आप को भरूँ,

या भरे अँधियारे में सोऊँ,

‘अनज़ान’ तू खुद से है कितना अनजान,

अनजाने में ही पहचान को खोऊँ।

 

~अनज़ान राहगीर

One Comment leave one →
  1. February 25, 2019 9:24 AM

    I just love this post. keep sharing more and more.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: