Skip to content

दिल्ली

December 21, 2012

हैवानियत चढ आई है।
न रहने दिया इंसान, इंसान को॥

बोटियाँ भी नोच-नोच कर खा ली।
न रहने दिया ही नामो-निशान को॥

दब कर उस बस में रह गयी चीखें भी।
जैसे काट डाला हो मुँह की जुबान को॥

कहाँ गए वो लोग जो कहते हैं।
न दोष दो मेरे भगवान को॥

मैं कहता हूँ आज तुम सब से।
नहीं मानता मैं तुम्हारे भगवान को॥

और अगर जो होता है सब मर्ज़ी से उसकी ही।
और जो चलती है सारी ही कायनात इशारों से उसके ही।
तो जवाब दो मुझे सबके अल्लाह, भगवान ओ खुदा।
क्यूँ तुम नहीं पाए रोक, दिल्ली में हुए हैवानियत को।
और दे तू बता ये भी, क्यूँ माने तुझ से भगवान को॥

पहले तो मारो उन हैवानों को, फिर हैवानियत को।
फिर डालो तुम मार अपने दिल में बसे उस भगवान को॥

Advertisements
4 Comments leave one →
  1. December 21, 2012 11:47 PM

    I hope the brave 23 year old recovers fast, she is off ventilator for now.

    • December 22, 2012 10:55 AM

      hope so….

      questions is… do we need such kind of brutality to shake & wake us up….it should not be….its all about the mindset of the majority of people in our society…and what can be better way to know about this than to read your blog which deals with this mentality and mindset of our society on a daily basis…

  2. December 23, 2012 6:30 PM

    Beautiful! No religious leaders have any explanations except resorting to divine factors. You gave one very good example which explains the hollowness of the concept of omnipotent God.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: