Skip to content

धर्म

November 29, 2013

मुझे लगता है कि धर्म को मानने वालों को धर्म की अमानवीय छवि देखकर भय लगता होगा.. और इसी भय के कारण वो बड़े ही आक्रामक रूप से धर्म को defend करते है.. कभी वो धर्म को science के साथ जोड़ते है… किन्तु वे भूल जाते हैं कि दुनिया के 97% scientists atheist है (हाँ ये दुख की ही बात है कि इसरो जैसा organization भी हर space mission से पहले उसकी replica को  किसी देव के दरबार में चढाता है….लेकिन अच्छी बात ये है इस देश में C N R Rao जैसे scientist भी हैं)
कभी कभी धार्मिक लोग यह कहकर धर्म का बचाव करते है धर्म की बुराइयाँ धर्म से नहीं किन्तु उसके गलत interpretation से है..अब ये कैसा सर्वशक्तिमान भगवान और उसका धर्म है जिसकी इतनी आसानी से misinterpretation करके उससे इंसान दूसरे इंसान के खिलाफ अत्याचार करता है….इससे तो यही सिद्ध होता है कि धर्म की संरचना में ही बहुत बड़ी खोट है.. और हो भी क्यों न धर्म में science की तरह peer review का concept ही नहीं है…

और यदि आप अपने आस-पास धर्म के followers को ध्यान से देखेंगे तो आपको एक pattern दिख जाएगी…. आप ध्यान से देखेंगे कि कौन से लोग धर्म के और धर्म गुरुओं के ज्यादा करीब हो गए हैं…. वे हैं –

वैसे लोग जिनमें आत्मविश्वास की बेहद कमीं है

वैसे लोग जो internal crisis से गुजर रहे हैं

बेहद अमीर लोग जिन्हे इक झुठी तसल्ली चाहिए अपने घृणित कर देने वाले धन से

गरीब लोग जिन्हें और कोई रास्ता नजर नहीं आता…

मूर्ख लोग जिनके पास rational ढंग से सोचने की शक्ति ही नहीं है….

हाँ शायद इक्के दुक्के अपवाद कहीं मिल जाए लेकिन उसकी संभावना कम ही है….

english translation to come….

Advertisements
No comments yet

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: