Skip to content

September 24, 2014
tags:

वो मोहल्ले के कॉर्नर वाले घर के बागीचे में
देखा है एक नीम का पेड़?
तुम उसी में लगने वाले फल की तरह
कड़वे हो …

उस घर के सामने वाले घर के बागीचे में
देखा है इक बबूल का पेड़?
शुक्र करो उसके कांटे की तरह नहीं हूँ मैं …

मैं तो पड़ोस वाले बागीचे के अंजीर के पेड़
में लगने वाले
लाल मीठे अंजीर की तरह हूँ ।।

Advertisements
No comments yet

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: